Sunday, November 28, 2021

नंगे पांव और आदिवासी कपड़े पहनें महिला के सामने हाथ जोड़े क्यों बैठे हैं पीएम मोदी और अमित शाह?

- Advertisment -

जी हां दोस्तों श्रीमती तुलसी गौड़ा (Tulsi Gowda) जिन्हें सोमवार को भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया. एक ऐसी महिला है जो पदम श्री पुरस्कार लेने के लिए नंगे पांव और अपनी पारंपरिक पोशाक (आदिवासी परिधान) में आई और पदम श्री पुरस्कार प्राप्त किया.

- Advertisement -

इसके बाद जब वे आई तो उनके सामने दुनिया के 2 सबसे शक्तिशाली व्यक्ति यानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने भी हाथ जोड़े, और उनके साथ पीछे बैठे हुए तमाम जनता जनार्दन ने उनका हाथ जोड़कर, और तालियां बजाकर सम्मान किया.

Read Also रुबिका Dilaik सिनेमा छोड़ चूल्हे पर बना रही खाना आख़िर क्यों?

कौन है पदम श्री विजेता तुलसी गौड़ा? Padma Shri Tulsi Gowda

श्रीमती तुलसी गौड़ा कर्नाटक में हलल्की स्वदेशी जनजाति से ताल्लुक रखती हैं. उनका पालन पोषण एक गरीब और वंचित परिवार में हुआ. जिसमें रहकर उन्होंने अपनी औपचारिक शिक्षा भी प्राप्त नहीं की. लेकिन आज उन्हें पूरा विश्व वन का विश्वकोश (Encyclopedia Of Forest) के नाम से जानता है.

श्रीमती तुलसी गौड़ा पेड़ पौधों और जड़ी बूटियों की विभिन्न प्रजातियों और उनके बहुत सारे ज्ञान प्राप्ति के कारण उन्हें यह नाम दिया गया है. 12 साल की उम्र से ही उन्होंने हजारों पेड़ पौधे लगाए. पिछले 60 वर्षों से वे पर्यावरण सुरक्षा और पेड़ पौधों के पालन पोषण से संबंधित सामाजिक कार्य कर रहीं हैं.

- Advertisement -

“तुलसी गौड़ा ने आज तक 30,000 से ज्यादा पेड़ पौधे लगा चुकी है. लेकिन उनके द्वारा लगाया गया एक भी पेड़ आज तक खराब नहीं हुआ है”

तुलसी गौड़ा की उम्र 72 साल है. वह पेड़ पौधों और जड़ी-बूटियों को जानने पहचानने कि अपनी कला को युवा पीढ़ी के साथ भी सांझा करती है. भारत सरकार ने उन्हें सम्मानित करने के लिए सोमवार को उन्हें पद्म श्री पुरस्कार दिया. उनकी इस उपलब्धि के लिए पूरा भारत गौरान्वित है, और इससे यह भी पता चलता है कि अगर जो व्यक्ति पर्यावरण और पेड़ पौधों से प्यार करते हैं, और उनका संरक्षण करते हैं तो वह उच्च सम्मान का अधिकारी है.

तुलसी गौड़ा ने छोटी सी उम्र से उन्होंने बहुत सारे पेड़ पौधे लगाए और उनका पालन पोषण किया. तुलसी गौड़ा एक अस्थाई सेवक के रूप में वन विभाग में शामिल हुई, जहां पर उन्हें प्रकृति के संरक्षण के लिए जाना पहचाना गया. बाद में उन्हें वन विभाग द्वारा स्थाई नौकरी की पेशकश भी की गई. 

- Advertisement -

Read Also Shahrukh Khan की एक्ट्रेस महिमा चौधरी ने बताया बॉलीवुड में पहले वर्जिन और बिना Kiss हुई लड़कियों की डिमांड होती है फिर

क्यों और किन्हें दिया जाता है पदम श्री पुरस्कार?

भारत का चौथा सर्वोत्तम नागरिक पुरस्कार पदम श्री पुरस्कार उन व्यक्तियों को दिया जाता है, जो कि सामाजिक और सार्वजनिक कार्यों में, विज्ञान और इंजीनियरिंग में, चिकित्सा में, साहित्य में, खेलों में, सिविल सेवाओं में, कला में, उद्योगों में, आदि क्षेत्रों में उच्च कार्य करते हैं.

Read Also इस TV Show में बिना एक भी कपडा पहनें जँगल में 21 दिन एक साथ बिताते है लड़का-लड़की डिस्कवरी चेंनेल पर आता है

2021 पदम पुरस्कार 

2021 पदम श्री पुरस्कार के लिए 102 व्यक्तियो को चुना गया है, जिसमें से 29 पुरस्कार विजेता महिलाएं भी हैं. इन पुरस्कारों में एक विजेता ट्रांसजेंडर व्यक्ति है. इसके साथ साथ 2021 पद्म पुरस्कारों में 7 पदम विभूषण और 10 पदम भूषण भी हैं. श्रीमती तुलसी गौड़ा को भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पदम श्री सम्मान से सम्मानित किया है. अपनी इस उपलब्धि के लिए हम तुलसी गौड़ा जी को बधाई देते हैं.

Read Also शाहरुख खान के साथ हस्पताल में दिखी बबीता जी उर्फ मुनमुन दत्ता, क्या हुआ था?